बीसीसीआई के स्टाम्प घोटाले का खुलासा

राज्य सरकार को करीब दो हज़ार करोड़ रुपये का  चूना

Sunil Misra  NETVANI :- भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) संस्था द्वारा खेल पर हुई कमाई पर सरकार को दिया जाने वाला स्टाम्प ड्यूटी का मामला इण्डिया अगेंस्ट करप्शन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हेमंत पाटिल द्वारा आज की प्रेस वार्ता में खुलासा किया गया है।

बीसीसीआई ने महाराष्ट्रा सरकार की स्टाम्प ड्यूटी के महसूल का करोडो रुपयों का बकाया पिछले दो दशकों से सरकार को नहीं दिया है। हेमंत पाटिल ने आरोप लगते हुए कहा कि इस नुक्सान को करने में कहीं न कहीं खिलाड़ी भी शामिल है।

हेमंत पाटिल ने आगे बताया कि बीसीसीआई ने महाराष्ट्र में लाये गए सारे सस्ते कारनामे, समझौते पत्र, स्पेसिफिक परफॉरमेंस कॉपीराइट असाइनमेंट जाहिरात एवं प्रसारण मुद्दों पर स्टाम्प ड्यूटी को बंधनकारक होते हुए भी महाराष्ट्र शासन के राजस्व के करीब दो हज़ार करोड़ रुपये का नुक्सान किया है। महाराष्ट्र मुद्रांक अधिनियम के विभिन्न कॉलमों के अंतर्गत सारे दस्तावेज़ों के प्रति बंधनकारक होते हुए भी बोर्ड ने इसे जानबूझ कर अनदेखा किया और करारनामों के अंतर्गत कम वसूली दिखाई गयी अभी तक करारनामे न बनाने वाले खिलाड़ियों में कई नाम शामिल है जिनमे सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी के अलावा मोहम्मद अज़हरुद्दीन के नाम भी शामिल है जो कई वर्षों से भारतीय टीम की तरफ से खेले ही नहीं I और वर्तमान में भारतीय कप्तान विराट कोहली और उनकी टीम के खिलाड़ियों ने भी राज्य सरकार के राजस्व का नुक्सान किया है हेमंत पाटिल के मुताबिक अगर बोर्ड और खिलाड़ियों ने स्टाम्प ड्यूटी नहीं भरी है तो उनके खिलाफ मुंबई उच्च न्यायालय का दरवाज़ा खटखटाया जा सकता है ।

ये सभी आरोप इंडिया अगेंस्ट करप्शन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हेमंत पाटिल द्वारा लगाए गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.