न्यूरोथैरेपी से एक लाख रोगियों को स्वस्थ करने का लक्ष्य : डॉ एचडी गुप्ता

 

Sunil Misra NETVANI :- सिंगापुर के प्रतिष्ठित एन आर आई श्री एच डी गुप्ता ने एक अभियान “दवा मुक्त भारत” का आव्हान किया है जिसके अंतर्गत मधुमय तथा कई शारीरिक व्याधियों का दर्द रहित इलाज करके चिकित्सा जगत में एक नई एवं अनूठी पहल को अंजाम दिया। श्री गुप्ता सिंगापुर में पिछले 26 वर्षों से एक सफल व्यवसाई, वास्तु आचार्य एवं गोल्ड-क्रस्ट समूह के अध्यक्ष तथा विश्व प्रसिद्ध आई टी कम्पलैक्स सिम-लिंग स्क्वेयर के सबसे बड़े भूमीपत्ती भी हैं।
उन्होंने न्यूरोथैरेपी द्वारा विभिन्न शारीरिक व्याधियों को नियंत्रित कर एक लाख (100,000) रोगियों को रोगमुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इस अभियान को “वैदिक-केयर” नाम से एक मंच ई-176, कालकाजी, दिल्ली में शुरू किया है। और उनके प्रयासों को “मिशन न्यू इण्डिया” के राष्ट्रीय संयोजक तथा जाने-माने राष्ट्र-सेवक श्री रवि चाणक्य ने इस थेरेपी द्वारा स्वयं उपचार करवाया और इसे प्रभावी माना। और कहा की “मैं इस चिकित्सा के बाद बहुत आराम महसूस कर रहा हूँ और इस चिकित्सा को छोटे जिलों में फैलाना चाहूँगा तथा इस मिशन को पूरा समर्थन प्रदान करूँगा”। न्यूरोथैरेपी संपूर्ण शरीर / मन प्रणाली और हमारे शरीर को बाहरी स्रोतों के किसी भी हस्तक्षेप के बिना खुद को स्वस्थ रहने में महत्वपूर्ण कार्य करती है। इसके लिए बाहरी रसायनों या दवाओं की आवश्यकता नहीं होती, क्योंकि हमारे शरीर में आवश्यक हार्मोन और रसायन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है I न्यूरोथैरेपी में तंत्रिका बिंदुओं पर दबाव या मालिश के माध्यम से अंग (अंगों) को सक्रिय करना या निष्क्रिय करना शामिल होता है। तथा शरीर का संतुलन और सामंजस्य बनाए रखने में मदद और न्यूरोपैथी चिकित्सा रोग के लक्षणों पर नहीं बल्कि कारणों पर केंद्रित होती है।
भारत में श्री सर्वोत्तम कुमार श्रीवास्तव, श्री शंभू झा, डॉ० शिव सिंह जैसे कई वरिष्ठ न्यूरो-चिकित्सक भी इस मिशन में शामिल हुए, अन्य शहरों जैसे कि अनानास वाले वैद जी और इटावा वाले वैद जी ने शामिल थे I उन्हें लगभग 10-20 वर्षों से प्रतिदिन 80-200 रोगियों के इलाज का अनुभव है।
“वैदिक केयर” ने 19 मई और 2 जून को नि:शुल्क शिविर चलाए जिसके प्रशंसापत्र वैदिक-केयर वेबसाइट www.VedicCare.in पर डाले गए हैं।
एक प्रशंसापत्र 5 साल से एलोपैथी दवा पर निर्भर मधुमेह रोगी ज्योति गुप्ता का है उसकी शुगर अब सामान्य है। लंबे समय से इंसुलिन पर निर्भर बृजेश कंसल भी बहुत खुश हैं उनके बीपी बहुत अधिक था, वह क्रोनिक किड़नी विकार चरण 4 से पीड़ित था और डायलिसिस के कगार पर था, उनकी किड़नी रीडिंग को 4.0 से 3.25 तक सुधारा गया है। वैदिक केयर 5 जून और 16 जून को DIABETICS के लिए विशेष शिविर करेगा। परामर्श निशुल्क है।
16 जून कैंप (7 am-9am) की विशिष्टता, अनानास वाले वैध जी बिहारीगढ़ द्वारा आयोजित की जाएगी जो केवल 40 दिनों के लिए एक खुराक और आहार नियंत्रण द्वारा मधुमेह रोगियों का इलाज करते हैं। श्री एच डी गुप्ता माननीय प्रधान मंत्री मोदी जी के सिंगापुर में दिए 1 भाषण से बहुत प्रेरित हैं जहाँ उन्होंने कहा कि मैंने योग नहीं बनाया। यह सब बहुत पहले से था, मैंने बस एक ईमानदार प्रयास किया और दुनियां जुड़ने लगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.