ओ बी सी ने पेश की 2018 -19 के कार्यनिष्पादन की विशेषताएं

वित्तीय वर्ष 2018-19 के प्रमुख कार्य निष्पादन

कारोबार वृद्धि
 कुल कारोबार –रु 4,04,195 करोड़ (वर्ष दर वर्ष वृद्धि – 13.68%)
 कुल अग्रिम – रु 1,71,549 करोड़ (वर्ष दर वर्ष वृद्धि – 15.75%)
 कुल जमाराशिया – रु 2,32,645 करोड़ (वर्ष दर वर्ष वृद्धि – 12.20%)
लाभप्रदता मानदण्ड
वर्ष में परिचालन लाभ में 1.37% वित्तीय वर्ष की वृद्धि हुई अथार्त् वित्तीय वर्ष 2018 के रु. 3703 करोड़ से बढ़कर 2019 में रु. 3753 करोड़ हो गया । तिमाही परिचालन लागत लाभ मार्च, 2019 की तमाही के दौरान 5.22% की क्रमांक आधार पर वृद्धि के साथ रु.1055 करोड़ हो गया।
बैंक ने वित्तीय वर्ष 2018 के रु.5872 करोड़ की निवल हानि की तुलना में रु.55 करोड़ का निवल वार्षिक लाभ अर्जित किया । मार्च, 2019 तिमाही के दौरान तिमाही निवल लाभ में 39 % के क्रम के आधार पर हुई वृद्धि के साथ रु.201.50 करोड़ रहा।
वित्तीय वर्ष 2018-19 के प्रमुख कार्य निष्पादन संकेतक
 कुल वसूली एवं अपग्रेडेशन 108% की वर्ष दर वर्ष वृद्धि के साथ रु.6597 करोड़ हुई।
वित्तीय वषर् 2017-18 के 12429.34 करोड़ के नए स्लिपेज की तुलना में कमी हुई और वित्तीय वर्ष 2018-19 में ये रु.7066 करोड़ रहे।
प्रावधान कवरेज अनुपात मार्च, 18 के 64.07% की तुलना में मार्च, १९ में बढ़कर 75.84% हो गया।
नए स्लिपेज में कमी तथा गुणवत्ता में सुधार के कारण ऋण लागत वित्तीय वर्ष 2017-18 के 6.07% की तुलना में कम होकर वित्तीय वर्ष 2018-19 में 4.03% रहा ।
निवल ब्याज मार्जिन 55 बीपीएस वर्ष दर वर्ष वृद्धि के साथ 2.73% रहा ।
अग्रिम पर आय 50 बीपीएस वर्ष दर वृद्धि वृद्धि के साथ 8.23% रहा ।
निधि की लागत 15 बीपीएस वर्ष दर वर्ष सुधार के साथ 4.92% रहा
जमाराशि की लागत 3 बीपीएस वर्ष दर वर्ष कमी के साथ 5.64% रहा।
आरएएम ऋण में वृद्धि
रिटेल में अग्रिम मार्च,18 के रु.23,402 करोड़ में 41.62% के वर्ष दर वर्ष वृद्धि के साथ मार्च, 19 में रु.33,141 करोड़ रहे। रिटेल अग्रिम में (तिमाही दर तिमाही) क्रम के आधार पर 7.30% की वृद्धि हुई।
वित्तीय वर्ष 2018-19 – कार्य निष्पादन की प्रमुख विशेषताएं
 एमएसएमई अग्रिम मार्च,18 के रु.28,031 करोड़ में 12.63% के वर्ष दर वर्ष वृद्धि के साथ मार्च, 19 में रु.31,572 करोड़ रहे। एमएसएमई अग्रिम क्रमांक के आधार पर (तिमाही दर तिमाही) 7.68% के वृद्धि हुई।
 आरएएम अग्रिम का अंश मार्च,18 के 50.62% से बढ़कर मार्च,19 में 54.94% हो गया। अग्रिम का अंश (तिमाही दर तिमाही) क्रम के आधार पर 55.38% के तुलना में आंशिक कमी के साथ 54.94% रहा।
वसूली एवं अपग्रेडेशन
बैंक का निवल एनपीए दीसंबर,2018 के 7.15% (रु.9973 करोड़) तथा मार्च, 2018 के 10.48% (रु.14282 करोड़) की तुलना में कम होकर 5.93% (रु. 9440 करोड़) रहा।
नए स्लपेज मार्च ,2018 तिमाही के रु.3123 करोड़ की तुलना में मार्च, 2019 तिमाही के दौरान रु.1491 करोड़ हुए। वार्षिक आधार पर नए स्लपेज के कमी होते हुए वित्तीय वषर् 2017-18 के रु.12429 करोड़ की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018-19 में रु.7066 करोड़ हुए।
 वषर्-दर-वषर् आधार पर, कुल नगद वसूल􀈣 एवं अपग्रेडेशन में 108% के वृद्धि अथार्त् रु.3161 करोड़ से बढ़कर रु.6597 करोड़ हुई । दीसंबर,18 तिमाही के रु.1266 करोड़ की तुलना में 44.24% का क्रम के आधार पर वृद्धि के साथ मार्च, 19 तिमाही में रु.1827 करोड़ कुल नगद वसूली एवं अपग्रेडेशन हुआ।
पूंजीगत पयार्प्तता अनुपात एवं नियामक आवश्यकता
बैंक के पास पयार्प्त पूंजी उपलब्ध है और 10.875% का न्यूनतम नियामक आवश्यकता की तुलना में 12.73% की पयार्प्त पूंजी है। वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान भारत सरकार ने दो किश्त में कुल रु.6686 करोड़ की पूंजी प्रदान की है। साथ ही, बैंक ने मार्च,19 तिमाही के दौरान कमर्चारी स्टॉक क्रय योजना के माध्यम से रु.250 करोड़ की पूंजी जुटाई है।
बैंक के पास निम्नानुसार पयार्प्त पूंजी उपलब्ध है:
विवरण
31.03.2019 के अनुसार नियामक आवश्यकता सीईबी 1 + सीसीबी 9.86%, 7.375% टियर, 9.98%
7.00% टियर II 2.75% 2.00% कुल सीआरएआर+सीसीबी 12.73% 10.875%

Leave a Reply

Your email address will not be published.